This website your browser does not support. Please upgrade your browser Or Use google Crome
';
नयी घोषणाएं
अन्य लिंक्स
अंतर्राष्ट्रीय सहयोग

कूट नीति से विज्ञान को कोई अतिरिक्तं लाभ नहीं मिलता, बल्कि विज्ञान से कूट नीति को लाभ होता है क्योंदकि दुनिया के देशों के आम सरोकार एक जैसे हैं – सभी के लिए भोजन, घर और आवास, स्वतच्छ‍ता, पोषण, एक रोग मुक्त समाज तथा बीमारियों का उपचार। भारत एशिया क्षेत्र में बायोटेक्नोघलॉजी के एक केंद्र के रूप में उभरा है। बढ़ती हुई वैश्विक चुनौतियों के अनुरूप वैज्ञानिक क्षमता के निर्माण की जरूरत भी बढ़ी है। अंतरराष्ट्रीय सहयोग अनुसंधान और विकास की वृद्धि की गति में तेजी लाने के लिए एक महत्वरपूर्ण वाहन है। पिछले दशकों में डीबीटी ने अनेक देशों तथा गैर सरकारी संगठनों के साथ मजबूत अंतरराष्ट्री य सहयोग का सामरिक रूप से विकास किया है।

World Map

canada US Brazil Denmark Finland UK Netherland Spain Indo-France Indo-Japan Indo-Vietnam Indo-Australia Russia Germany Germany Estonia

 

बहुपक्षीय सहयोग
यूरोपीय संघ*

विभाग एरा – नेट की रूपरेखा और भारत के लिए विशिष्टा एरा नेट अर्थात न्यूा इंडिगो के माध्यगम से यूरोपीय संघ के साथ भागीदारी करता है। न्यूी इंडिगो को सफलता पूर्वक पूर्ण करने के बाद डीबीटी अब भारत विशिष्टि एरा नेट अर्थात इनो इंडिगो में भागीदारी कर रहा है। भारत ने हाल ही में इंफैक्टब – एरानेट और इंडिगो नीति में भागीदारी की है। एरानेट रूपरेखा के अंदर चार बढ़ी परियोजनाएं अनेक भागीदार देशों के नेटवर्क के साथ बनाई गई है और इंडिगो एरा नेट के तहत 17 परियोजनाएं जारी हैं।

अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ सहयोग
डीबीटी – बीएमजीएफ (बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन)*

डीबीटी और बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के बीच विकासशील देशों में वैश्विक सवास्य््रय और विकास मुद्दों को संबोधित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताशक्षर किए गए हैं। परियोजनाओं / प्रयासों को डीबीटी और बीएमजीएफ द्वारा संयुक्त रूप से निधिकृत किया जाएगा।

डीबीटी – वेलकम ट्रस्ट एलायंस*
डीबीटी ने वेलकम ट्रस्ट (डब्ल्यूटी) के साथ भागीदारी की है, जो लंदन में स्थित “वैश्विक चैरिटेबल फाउंडेशन प्रतिभाशाली मन का समर्थन करके स्वास्थ्य में असाधारण सुधार को प्राप्त करने के लिए समर्पित” संगठन है।
यह भागीदारी पोस्टर डॉक्टारल स्तटर पर जैव चिकित्साए अनुसंधान में तीन स्तपरीय अध्ये तावृत्ति कार्यक्रम को आरंभ करने के लिए बनाई गई है। डीबीटी और डब्यूे टी, प्रत्येीक ने पांच वर्ष की अवधि के लिए 8 मिलियन ग्रेट ब्रिटेन पाउंड प्रति वर्ष की राशि की प्रतिबद्धता की है। यह कार्यक्रम एक विशेष प्रयोजन वाहक द्वारा प्रशासित किया जा रहा है, जिसे वेलकम ट्रस्टत / डीबीटी इंडिया एलाइंस, भारत में एक जन सहायतार्थ ट्रस्टा के रूप में पंजीकृत किया गया है।
ये अध्येतावृत्तियां भारत के बाहर और भारत के अंदर कार्य करने वाले सभी भारतीयों के लिए खुली हैं। ये अध्येतावृत्तियां भारत में काम करने के लिए तैयार गैर-भारतीयों के लिए भी खुली है।

हर साल ये अध्येतावृत्तियां चार श्रेणियों में प्रदान की जाती हैं :

  • 40 प्रारंभिक – कैरियर अध्येतावृत्ति (एक साल के पोस्ट डॉक्टरेट अनुभव के साथ)
  • 20 मध्यवर्ती अध्येतावृत्ति (पोस्ट डॉक्टरेट अनुभव के 3 – 6 साल के साथ)
  • 10 वरिष्ठ अध्येतावृत्तियां


मार्गदर्शी अध्येधतावृत्तियां
1 अप्रैल, 2009 से अब तक कुल 93 पुरस्कार दिए गए हैं, आवेदन के लिए नए आमंत्रण और गठबंधन के विवरण www.wellcomedbt.org पर उपलब्ध हैं।

जैव प्रौद्योगिकी उद्यमिता छात्र दल (सर्वोत्तम)*
बेस्टप – इंडिया एक ऐसा कार्यक्रम है जो विकासशील जैव प्रौद्योगिकी उद्यमिता में युवा स्नारतकोत्तर और डॉक्टपरल छात्रों को जैव विज्ञान के वाणिज्यीमकरण में शामिल मुद्दों से परिचित करने पर लक्षित है। बेस्टत कार्यक्रम की शुरूआत नवाचार को प्रोत्साैहन देने के लिए की गई है और छात्रों ने विजेता दलों द्वारा 6 स्टा‍र्ट अप कंपनियां तैयार की है।
    2009 आईआईटी मद्रास दल द्वारा सी6 एनर्जी की स्थापना
  • 2009 आईआईटी बॉम्बे दल द्वारा विंडमिल हेल्थि स्थापित
  • 2010 आईआईएससी, बैंगलोर दल द्वारा पेंडोरम टेक्नोलॉजीज़ प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना
  • 2011 सस्त्र यूनिवर्सिटी, तंजावुर दल द्वारा दमिश्क फॉर्च्यून की स्थापना
  • 2012 सशीएस्मी टेक्नोिलॉजी – विकास के लिए नवोन्मेष राजस्थान, जयपुर विश्वविद्यालय की टीम द्वारा स्थापित किया गया
  • 2012 बायोसिस भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, बंगलौर की टीम द्वारा स्थापित किया गया

डीबीटी – क्रेस्ट अवार्ड*
विज्ञान के विकास के लिए वैश्विक नेटवर्कों को आगे बढ़ाने के साथ विभाग द्वारा मानव संसाधनों में क्षमता निर्माण के प्रति प्राथमिकता दी जाती है, डीबीटी द्वारा उन्न्त वैज्ञानिक प्रशिक्षण के लिए विदेशों में अनुसंधानकर्ताओं को कटिंग एज रिसर्च एंहांसमेंट एण्डी साइंटिफिक ट्रेनिंग पुरस्का र (डीबीटी – क्रेस्टा पुरस्का्र) प्रदान किया जाता है। हर वर्ष लगभग 50 अध्येीतावृत्तियां प्रदान की जाती है, जिसमें जम्मू– और कश्मीकर के उत्तर भारतीय राज्यै शामिल हैं। उपरोक्तम कार्यक्रम में दिल चस्पीन रखने वाले संस्थािनों या वैज्ञानिकों द्वारा इस विशेष कार्यक्रम हेतु विभाग द्वारा आवेदन आमंत्रित करने पर अपने प्रस्ता व / आवेदन जमा किए जा सकते हैं।
संपर्क अधिकारी

डॉ शैलजा वैद्य गुप्ता,
सलाहकार / वैज्ञानिक ‘जी’,
अंतरराष्ट्रीय सहयोग, डीबीटी
फोन: 91-11-24363748
फैक्स: 91-11-24362884
ईमेल:shailja[at]dbt[dot]nic[dot]in

डॉ अमित परीख
वैज्ञानिक ‘ई’
अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, डीबीटी
फैक्स : 91-11-24362884,
ईमेल : amit[dot]parikh[at]nic[dot]in

डॉ वैशाली पंजाबी
वैज्ञानिक-ई,
अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, डीबीटी
ई-मेल: :vaishalip[dot]dbt[at]nic[dot]in

डॉ सुरक्ष एस दीवान
वैज्ञानिक-ई,
अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, डीबीटी
ई-मेल: ssdiwan[dot]dbt[at]nic[dot]in